अरे जनाब …जीवन साथी बन कर थोड़े ही ना प्यार की किस्ते चुकाई जाती है।ये तोअहसासों की वो किस्ते है जो जन्म जन्मांतर तक साथ चलने वाला कभी न चुकने वाले कर्ज के लिए ली होती है।।

प्रेमी आपको छोड़ सकता है जनाब पर प्रेम नहीं ॥

By author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *